पंचायतो को लोक हित में और क्या करना चाहिए।


ग्राम पंचायतो का काम गाँव की तरकी करना तो है ही फिर चाहे वो गाँव में कोई सड़क निकालनी हो या फिर गाँव के किसी रास्ते को पका करना हो और भी ऐसे कई कार्य है जो ग्राम पंचायत को करने होते हैं। लेकिन मैने देखा है की पंचायतों के प्रधान, जिला परिषद और बी डी सी मेंबर इन लोगों ने कभी यह नहीं सोचा कि हम जिस औहदे पर जनता द्धारा चुनकर आये हैं तो हमें काम के इलावा और भी ऐसे कई कार्य होते है जिनके करने से आप लोगों की नजरों में अपनी और भी अच्छी जगह बना सकते हैं। मैं सुबह – सुबह घुमने के लिए निकल जाता हूँ और थोड़ा बहुत दौड़ भी लिया करता हूँ अपने आप फिट रखना मेरी पहली पसंद हैं। एक दिन सुबह – सुबह जब मैं घुमने निकला तो मेरे दिमाग में एक बात आई जो होनी चाहिए। क्या है वो बात।

आपने अक्सर देखा होगा कि 30 से लेकर 40 वर्ष तक के लोग जब अपने काम में व्यस्त हो जाते हैं तो उन्हें अपनी जिन्दगी के लिए समय निकालना बड़ा मुश्किल हो जाता है लेकिन इस उम्र के लोग काफी सतर्क और चुस्त होते हैं। परन्तु इस चुस्ती को बनाये रखने के लिए हमारी पंचायतों को साल में दो बार 26 जनवरी और 15 अगस्त को एक दौड़ का आयोजन करना चाहिए। दौड़ कम से कम 2 किलोमटर तक की होनी चाहिए और इसमें पंचायत के अन्तर्गत आने वाले लोगों को ही अनुमति दी जानी चाहिए।

कैसे होना चाहिए आयोजन।

01. दौड़ में हिसा लेने के लिए उम्र 30 से 40 वर्ष
02. उम्र का सर्टिफिकेट
03. दौड़ कम से कम 2 किलोमटर तक की होनी चाहिए
04. दौड़ में कम से कम 15 लोगों का चयन होना चाहिए
05. मर्द औरत कोई भी हिसा ले सकते हैं
06. 15 लोग ऐसे होने चाहिए जो धावकों पर दौड़ते समय नजर रख सकें
07. दौड़ने के लिए ट्रैक के रूप में सड़क का इस्तेमाल हो
08. इसमें तीन विजेता घोषित होने चाहिए
09. पहले विजेता के लिए 5,100 रुपए का इनाम होना चाहिए और पंचायत का दौड़ विजेता का सर्टिफिकेट
10. दूसरे विजेता के लिए 2,100 रुपए का इनाम होना चाहिए और पंचायत का दौड़ विजेता का सर्टिफिकेट
11. तीसरे विजेता के लिए 1,100 रुपए का इनाम होना चाहिए और पंचायत का दौड़ विजेता का सर्टिफिकेट
12. इनाम जिला परिषद या फिर बी डी सी मेंबर के हाथों दिलवाया जाना चाहिए

यह सब कैसे किया जा सकता है।

इसके लिए पंचायत के प्रधान को सबसे पहले पहल करनी चाहिए प्रधान पंचायत को अख़बार में या फिर पेम्पलेट बनबाने चाहिए और पंचायत के दरमियान आने वाले सभी घरों में बटबाने चाहिए। ताकि पंचायत के दरमियान आने वाले सभी लोगों तक यह बात पहुंच सके और 30 से 40 वर्ष के लोग इस दौड़ के लिए अपने आप को तैयार कर सकें। मुझे लगता है ऐसा करने से समाज के सभी लोग चुस्त – दुरुस्त रहेंगे। और धावक जीतने के लिए दौड़ की तैयारी में लग जायेगा।

विजेताओं को इनाम की राशि के रूप में दिया जाने वाला पैसा कहाँ से आएगा।



अगर पंचायत इनाम के रूप में दी जाने वाली राशि का प्रबंध करने में सक्षम है तो ठीक है अन्यथा इस पैसे का प्रबंध करने के लिए पंचायत को एक कमेटी का गठन करना चाहिए। इस कमेटी में उन लोगों को जोड़ा जाए जो अपनी नौकरी से रिटायर हो चुके हैं कमेटी में कम से कम पांच लोग होने चाहिए। यह पांच लोगों की कमेटी पंचायत के दरमियान आने वाले सभी घरों से दस रुपए प्रति माह के इकठे करें और इस पैसे को एक अलग बैंक अकाउंट में रखा जाए और अकाउंट में कितने पैसे जमा हैं उसे समयनुसार सार्वजानिक किया जाए।

इस तरह की दौड़ का आयोजन करने से क्या लाभ होगा।

01. समाज के लोगों में एकता का गठन होगा।
02. रोजाना दौड़ लगाने से हमारे लोग चुस्त – दुरुस्त रहेंगे।
03. लोगों में इकठे होने की भावना आएगी।
04. अगर दूसरी पंचायतें भी ऐसा करेंगी तो पंचायतों के आपस में मुकाबले करवाये जा सकते हैं।
05. जितने वाले धावकों की फोटो अख़बार में दी जानी चाहिए। ताकि लोगों का प्रोत्साहन बड़े।

मैं इस प्रस्ताव को सबसे पहले अपनी पंचायत में रखूँगा अगर उन्हें यह पसंद आता है तो मैं अपने इस सुझाव को एक सामाजिक परिवर्तन समझूंगा। मैं आपके साथ और भी अच्छे अच्छे सुझावों के साथ लिखता रहूँगा अगर आपकी पंचायत भी ऐसा करती है तो यह सबसे अच्छा सुझाव होगा।

धन्यबाद
जीतेन्दर शर्मा

86.0Overall Score
आपके सुझाव आने से हम पंचायतों को इसके लिए अवगत करवाएंगे।

अपने विचार लिखें। अपने विचार लिखें। विस्तार में ताकि हम आपकी रणनीति के बारे सोचें और विचार करें।

  • आपको यह सुझाव कैसा लगा
    91
  • क्या ऐसा होना चाहिए
    71
  • पंचायतों को ऐसा करना ठीक रहेगा
    96

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>