हिन्दुस्तान को स्मार्ट देश बनाने के लिए जरुरी है।


Need Smart India

अगर हम अपने आस- पास और दुर -दराज के कस्बों में नजर घुमाकर देखें तो शायद आपके मन में भी जरूर एक सवाल खलबली मचाएगा। क्या है वो सवाल

आओ हम इस पर बात करें।

क्या होना जरुरी है। अगर हिन्दुस्तान को स्मार्ट देश बनाना है।

आपने अपने कस्बों में, शहरों में आवारा पशुओं को देखा होगा ज्यादातर गाय और बैल देखें होंगे आपने गाँव में शहरों में और सड़को पर, सड़कों पर तों कई बार आवारा गाय बैल की वजह से जाम भी लग जाता है। अब जरा सोचिए अगर कोई विदेशी हिन्दुस्तान में आता है और ये सब देखता है तो क्या सोचेगा हमारे भारत देश के बारे में।

अब हम एक ऐसे दूसरे पहलु की ओर चलते हैं। आपने अपने आस पास, मंदिरों में, रेलवेस्टेशन, बस स्टैंड, बस के अन्दर, भीड़- भाड़ वाले स्थानों पर अवश्य देखा होगा कि भीख मांगने वालों की तादात बढ़ती जा रही है कम होने का नाम ही नहीं, कई जगह तो भीख मांगने वालो के गिरोह भी है। बड़ी हैरान करने वाली बात है।

इस बात के ऊपर ध्यान देना आवश्यक है कि ये  भीख मांगने वाले कितने प्रकार के हैं।

1. बच्चे भी भीख मांगते नजर आयेंगें वो भी तब जब उनके दोनों हाथ सही सलामत है। तो भीख मांगने की क्या जरुरत। काम भी कर सकते है। पढ़ाई भी तो कर सकते हैं। पर कैसे।

2. बच्चे भीख मांगने वाले जिनकी एक टांग काम नहीं करती पर दोनों हाथ सलामत है तो भी भीख मांगना जरुरी है। वो पढ़ाई भी तो कर सकते है, काम भी तो कर सकते हैं। पर कैसे।

3. ऐसे भिखारी जिनकी दोनों टांगे नहीं पर दोनों हाथ सलामत है।

4. कुछ ऐसे भिखारी भी हैं जिनका एक हाथ काम नहीं करता।

5. अब हम उन भिखारियों की बात करते हैं जिनका गैंग गिरोह चलाने वाले छोटे बच्चों को अगवा कर लेते हैं जिनमें बच्चे और बच्चियां दोनो शामिल हैं। अगवा करने के बाद उनको भीख मांगने के लिए मजबुर करते हैं।

ये इतना बड़ा जंजाल है कि लिखते-लिखते हाथ थक जाएंगे। अब जरुरी है इस फैलते भिखारियों के जंजाल और आवारा पशुओं के जंजाल पर कुछ सोचने का।

आपको यह करना सम्भव  लगता है अगर हिन्दुस्तान के हर राज्य से लेकर जिलों तक और जिलों से पंचायत तक, एक ऐसी यूनियन होनी चाहिए जिसमे आवारा पशुओं को एक जगह रखा जाए और सभी भिखारियों को इन पशुशालाओं में काम देना चाहिए। पशुशालाओं में गायों की देखभाल और दुध का उत्पादन संभव हो सकता है। पहाड़ी राज्यों में बैलों द्धारा खेती जो की पशुशलाओं के भिखारी कर्मचारीयों द्धारा सम्भव होगी।

सार:- सीधे शब्दों में कहें तो आवारा पशुओं को एक जगह इकठ्ठा करना और भिखारी लोगों को एक यूनियन बनाकर किसी काम पे लगाना ये अपने आप में एक बहुत बड़ा काम होगा। इससे हमारी दो बुराइयाँ ख़त्म हो सकती हैं। एक तो आवारा पशु नहीं दिखेंगे और दूसरा भीखारी भीख मांगना छोड़ देंगे। और ये भी जरुरी नहीं की भीखारी पशुशाला में ही काम करें उनके लिये सरकार कई दूसरे काम भी दे सकती है।

Page Title: India is required to make a smart country

Keywords: Towns, Smart country, Stray animals, Stray cow, Exotic India, Temples, Railway station, india Bus Stand, Screw crowds, Beggars, Begging gang members, Alright, Trouble

पव्लिशर “जितेंदर शर्मा

8.5Overall Score
हिन्दुस्तान को स्मार्ट देश बनाने के लिए जरुरी है।

आपने अपने कस्बों में, शहरों में आवारा पशुओं को देखा होगा ज्यादातर गाय और बैल देखें होंगे आपने गाँव में शहरों में और सड़को पर, सड़कों पर तों कई बार आवारा गाय बैल की वजह से जाम भी लग जाता है। अब जरा सोचिए अगर कोई विदेशी हिन्दुस्तान में आता है और ये सब देखता है तो क्या सोचेगा हमारे भारत देश के बारे में।

  • क्या हर राज्य में 10 पशुशाला होनी चाहिए।
    10
  • क्या भिखारियों पर रोक होनी चाहिए।
    10
  • क्या भिखारियों के लिए संस्था होनी चाहिए।
    9
  • इस आर्टिकल को आप कितना सही मानते हैं।
    8
  • क्या भारत सरकार को इस मुद्दे पर विचार करना चाहिए।
    7
  • क्या राज्य सरकारों को इस मुद्दे पर विचार करना चाहिए।
    7

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>